अनुदान राशि से वंचित दिव्यांग मृत शिक्षक के परिवार हो रहे भुखमरी का शिकार.

सीतामढ़ी: बैरगनिया प्रखंड क्षेत्र के आदमबान निवासी वीना देवी ने जिला पदाधिकारी सुनील कुमार यादव को आवेदन देकर अपने पति मृत दिव्यांग श्री कृष्ण झा को अनुदान राशि से वंचित करने का मामला उठाया है  आवेदन में बिना देवी ने उल्लेख किया है कि उनके पति बैरगनिया स्थित दीनदयाल उपाध्याय मेमोरियल कॉलेज में संस्कृत विभाग के शिक्षक थे.

वे कॉलेज में 2012 से कार्यरत थे।  आवेदन में उल्लेख किया गया है कि वर्ष 2020 में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा प्राप्त अनुदान  राशि (2012- 14 ) से महा विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं प्राचार्य द्वारा गलत तरीके से उन्हें वंचित कर दिया गया. इसके साथ ही उक्त आवेदन में उन्होंने बताया है 30 जून 2020 को सत्र (2013 -15) के लिए प्राप्त से ₹5000000 की सरकारी अनुदान जो शिक्षकों के वेतन मद में भेजा गया था इससे भी इनको वंचित कर दिया गया. वीना देवी ने अपनी पीड़ा बताते हुए आगे बताया है एक तरफ  कोरोना संक्रमण से आर्थिक बोझ  दूसरे ओर संवेदनहीन कॉलेज प्रशासन साजिश के तहत मेरे पति को वेतन से वंचित कर दिया।इस संबंध में मेरे पति द्वारा स्थानीय प्रखंड विकास पदाधिकारी माध्यमिक शिक्षा जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिलाधिकारी सीतामढ़ी एवं मुख्यमंत्री को आवेदन भेजकर स्थिति से अवगत कराया था.

वीडियो और अन्य पदाधिकारियों  द्वारा कॉलेज प्रशासन को निर्देश दिया गया था परंतु कॉलेज प्रशासन के लापरवाही के कारण अनुदान राशि अभी तक प्राप्त नहीं हुआ है.उन्होंने आरोप लगाया है कि अनुदान राशि प्राप्त नहीं होने की स्थिति में उनके पति मानसिक संकट से गुजर रहे थे और अनुदान राशि प्राप्त नहीं होने से उनकी मानसिक शंकर बढ़ती गई और अंततः 29 जनवरी 2022 को उनकी मृत्यु हो गई.

उन्होंने अपने परिवारिक स्थिति बताते हुए लिखी है कि मेरे पति के निधन हो जाने के बाद घर में कमाने वाला व्यक्ति कोई नहीं है जिससे कि हम लोगों की स्थिति भुखमरी पर हो गई है. इसलिए उन्होंने जिला पदाधिकारी से अभिलंब अनुदान राशि देने के लिए स्थानीय कॉलेज प्रशासन को आदेश देने की मांग की है इसके साथ ही जिला पदाधिकारी से आर्थिक मदद की भी मांग की है.