किसान पाठशाला में किसानों के बीच इंटीग्रेटेड पेस्ट मैनेजमेंट का आन फील्ड हुआ प्रशिक्षण.

सीतामढ़ी: कृषि विभाग आत्मा द्वारा संचालित किसान पाठशाला जो कि तिलहन की खेती को बढ़ावा देने हेतु प्रखंड बथनाहा के किशनपुर में किसानों के बीच आयोजित किया जा रहा है. इस किसान पाठशाला में आज किसानों के साथ किसान पाठशाला प्रत्यक्षण फील्ड पर कृषि विभाग के तकनीकी दल द्वारा किसानों को आईपीएम किट का डेमो दिखा कर किसानों को समेकित कीट प्रबंधन के बारे में प्रखंड तकनीकी प्रबंधक आरडी चौरसिया के द्वारा विस्तृत जानकारी दी गई.

श्री चौरसिया जी द्वारा बताया गया कि आईपीएम किट्ट में दिए गए उपकरण से किसानों को अपने क्षेत्र पर लगने वाले कीट ब्याज के बारे में आसानी से जानकारी मिल जाएगी और अधिक आर्थिक आर्थिक क्षति अस्तर होने पर ही रासायनिक दवाओं का इस्तेमाल करें। वैसे मैं तो किसान यदि उनके खेत में किसी कीट ब्याज  का प्रकोप हो जाता है तो वे अनुमान के आधार पर उसका उपचार करते हैं परंतु आईपीएल किट के माध्यम से इंसेक्ट नेट द्वारा सिलेक्टेड कीट की पहचान कर जो कि उनके फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं उनके रोकथाम के लिए उचित सहित तरीका अपनाकर कम खर्च वह कम लागत में बेहतर उत्पादन कर सकते हैं.

सीतामढ़ी के किसानों को तिलहन की खेती को प्रोत्साहित करने हेतु प्रत्येक प्रखंड में किसान पाठशाला चलाया जा रहा है ताकि किसान आज एक तरफ जहां तिलहन का काफी डिमांड है  गेहूं के अलावे इसकी खेती कर अपने घर परिवार के लिए शुद्ध सरसों का तेल प्राप्त कर सकते हैं साथ ही अधिक बाजार भाव होने से अतिरिक्त मुनाफा भी कमा सकते हैं.

तकनीकी दल के साथ सहायक तकनीकी प्रबंधक संजना राज एवं कृषि समन्वयक राकेश कुमार भी इस कार्यक्रम में किसानों के साथ मौजूद थे जिसमें लाल बाबू साह रामजी सिंह नथुनी साह अनिल कुमार चौधरी सहित 25 किसानों के बीच आईपीएम किट्ट का वितरण किया गया.