जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में कृषि टास्क फोर्स की बैठक आयोजित.

सीतामढी: जिला पदाधिकारी मनेश कुमार मीणा की अध्यक्षता में शुक्रवार को समाहरणालय स्थित परिचर्चा भवन में कृषि कार्यालय द्वारा कृषि टास्क फोर्स की बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा पी0पी0टी0 के माध्यम से जिला स्तर पर फसल आच्छादन का लक्ष्य, प्रखंडवार फसल आच्छादन का लक्ष्य, प्रखंडवार बिचड़ा अच्छादन का लक्ष्य एवं उपलब्धि, थोक उर्वरक विक्रेताओं की सूची, थोक एवं खुदरा विक्रेताओं की प्रखंडवार संख्या, उर्वरक की उपलब्धता, प्रखंडवार उर्वरक वितरण की मात्रा, उर्वरक छापामारी दल का गठन, उर्वरक छापामारी से संबंधित प्रतिवेदन, उर्वरक नमूना संग्रह, बीज नमूना संग्रह, कीटनाशी नमूना संग्रह बीज संबंधित प्रतिवेदन, मिट्टी नमूना जांच प्रतिवेदन, एवं ई-किसान भवन से संबंधित सभी जानकारियां दी गयी.

जिस पर जिला पदाधिकारी ने किसानों के हित में चल रही सभी योजनाओं को लेकर प्रखंड एवं पंचायत स्तर के सभी पदाधिकारियों से समीक्षा किया उन्होंने कहां की जिले के सभी किसानों को सरकार की योजनाओं से लाभान्वित कराना सुनिश्चित करें.

किसानों को बीज की उपलब्धता खाद की उपलब्धता सभी प्रखंड कृषि पदाधिकारी सुनिश्चित करें इसमें किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी संबंधित व्यक्ति को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी.जिले के किसानों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी करें किसी प्रकार की शिकायत का रिकॉर्ड तैयार कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया.उन्होंने पूर्व वर्षापात एवं वर्तमान माह का वर्षापात के बारे में जानकारी ली.उन्होंने फसलवार निर्धारित लक्ष्य एवं उपलब्धि तथा लक्ष्य अनुरूप  बीज उपलब्धता तथा इसको एप्प के माध्यम से किसानों के बीच वितरण किए जाने को लेकर समीक्षा किया.

उन्होंने आगामी खरीफ के सीजन को लेकर विशेष निर्देश दिए सभी प्रकार के बीज को लेकर समीक्षा किया तथा हर माह आने वाले बीज के विवरण की जानकारी प्राप्त की कहा कि बीज वितरण में किसी भी किसानों के द्वारा कोई भी शिकायत प्राप्त नहीं होनी चाहिए.शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करना सुनिश्चित करें मानसून परिवर्तन को देखते हुए सभी क्षेत्रीय कर्मियों को संभावित प्राकृतिक आपदा की स्थिति में तत्परता से किसानों को हरसंभव जानकारी तथा सहायता उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें.खरीफ सीजन में उर्वरक की आवश्यकता एवं उपलब्धता की समीक्षा की गई जिसमें यूरिया,डी0ए0पी0, पोटाश, मिश्रण,  एस0एस0पी0 की उपलब्धता एवं वितरण की जांच की गई.इस पर जिला कृषि पदाधिकारी ने बताया कि खाद की कोई कमी नहीं है थोक एवं खुदरा खाद विक्रेताओं के पास पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है समीक्षा उपरांत जिला पदाधिकारी ने निर्देश दिया कि खरीफ मौसम प्रारंभ हो चुकी है.

इसमें किसानों द्वारा बृहद पैमाने में खाद का क्रय किया जाता है जिसमें जिले के कई प्रखंड अंतर्राष्ट्रीय नेपाल सीमा पर अवस्थित है इन प्रखंडों के पंचायतों में खाद की कालाबाजारी तथा तस्करी की संभावना बनी रहती है जिसको लेकर विशेष निगरानी रखें तस्करी करने वाले पर प्राथमिकी दर्ज करवाएं इसकी सतत निगरानी होती रहे सूचना मिलने पर संबंधित थाना को सूचना देते हुए संबंधित व्यक्ति पर प्राथमिकी दर्ज करवाना सुनिश्चित करें रात्रि कालीन गश्ती बढ़ाएं.उर्वरकों की कालाबाजारी तथा तस्करी की रोकथाम हेतु एक उड़नदस्ता दल का गठन किया जाए गठित उड़नदस्ता दल द्वारा सीमावर्ती क्षेत्रों के पंचायतों बॉर्डर के चेक पोस्ट तथा अन्य क्षेत्रों में आवश्यक रूप से छापेमारी की जाए.

आवश्यकता पड़ने पर सीमा सुरक्षा बल का भी सहयोग लिया जाए. छापेमारी के क्रम में अनियमितता पाए जाने पर कानूनी कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे। तथा संबंधित प्रतिवेदन जिला मुख्यालय उपस्थित कराएंगे.साथ ही अन्य प्रखंडों में भी खाद की कालाबाजारी तथा तस्करी पर रोक लगाना आवश्यक है इसको लेकर विशेष निगरानी रखें.वही ई-किसान भवन के निर्माण के स्थिति की समीक्षा में परसौनी एवं चोरौत प्रखण्ड में जमीन उपलब्ध नहीं होने के कारण निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया इसको लेकर जिला पदाधिकारी ने सबंधित अंचलाधिकारी को निर्देश दिया कि जमीन उपलब्ध कराकर निर्माण कार्य प्रारंभ करना सुनिश्चित करें.

पंचायत स्तर पर कृषि कार्यालय में किसान सलाहकार तथा कृषि समन्वयक निश्चित रूप से कार्यालय अवधि में उपस्थित रहना सुनिश्चित करेंगे। इसको लेकर आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया अनुपस्थित पाए जाने पर विभागीय कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। उदान से संबंधित समीक्षा के क्रम में पॉलीहाउस निर्माण को लेकर जिला पदाधिकारी ने सभी पंचायत कोर्डिनेटर को सूक्ष्म सिंचाई से संबंधित 10 आवेदन लेना सुनिश्चित करने हेतु निर्देशित किया.सूक्ष्म सिंचाई में किसानों को 90 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है.वही परियोजना निदेशक आत्मा द्वारा दिए गए प्रतिवेदन की समीक्षा की गई जिसमें किसानों का प्रशिक्षण, परिभ्रमण, किसान पाठशाला, कृषक हितार्थ समूह, महिला खाद सुरक्षा समूह, कृषक वैज्ञानिक मिलन, किसान मेला, जिला एवं प्रखंड स्तर पर किसान पुरस्कार, किसान गोष्ठी जिला स्तरीय नवाचार गतिविधियो की समीक्षा की गई.

जिलाधिकारी ने किसान पुरस्कार की संख्या में कमी होने पर जांच कर किसान पुरस्कार की संख्या बढ़ाने को कहा. उन्होंने लघु सिंचाई प्रमंडल द्वारा योजना की स्थिति चलंत नलकूपों की संख्या और कार्यरत नलकूपों की संख्या की समीक्षा की जिसमें में पाया गया कि विद्युत दोष के कारण कुछ नलकूप नहीं चल पा रहे हैं जिसको जिला पदाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता विद्युत को बिजली की स्थिति को ठीक करते हुए किसानों को ससमय सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सके इसके लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिया.साथ ही जिला पदाधिकारी ने अवैध खाद एवं बीज बिक्री की शिकायत पर प्रखंड में थोक एवं खुदरा विक्रेताओं के भंडारण की जांच करने का निर्देश दिया उन्होंने कहा कि जांच में अनिमियता पाए जाने पर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करते हुए उनके अनुज्ञप्ति को रद्द किया जाए.

प्रतिदिन विक्रेताओं से खाद एवं बीज बिक्री का प्रतिवेदन प्रखंड कृषि पदाधिकारी लेना सुनिश्चित करें, उन्होंने कहा कि जिले के सभी कृषि संबंधित कार्यालयों में संबंधित सप्लायर का नाम है मोबाइल नंबर के साथ डिस्प्ले किया जाए.साथ ही जिला पदाधिकारी ने पशुपालन के क्षेत्र में बकरा पालन मत्स्य के क्षेत्र में मछली पालन एवं अन्य विभागों से संबंधित योजना का समीक्षा किया उन्होंने कहा कि किसानों के हित में जितनी योजनाएं हैं उन सभी योजनाओं का प्रचार प्रसार कर किसानों तक पहुंचाने का कार्य करें.

उक्त बैठक में अपर समाहर्ता कृष्ण प्रसाद गुप्ता, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी विजय कुमार पांडे, ओएसडी प्रशांत कुमार, जिला कृषि पदाधिकारी अनिल कुमार, जिला पशुपालन पदाधिकारी डॉ राजीव रंजन चौधरी, एलडीएम लाल बहादुर पासवान, डीपीएम जीवीका, सभी अनुमंडल कृषि पदाधिकारी, जिला कृषि समन्वयक, सभी प्रखंड कृषि पदाधिकारी,  सभी किसान सलाहकार सभी प्रखंड तकनीकी प्रबंधक, सभी सहायक तकनीकी प्रबंधक, प्रखंड उद्यान पदाधिकारी, सहायक निदेशक उद्यान, सहायक निदेशक रसायन, परियोजना निदेशक आत्मा, सहायक निदेशक पौधा संरक्षण उपस्थित थे.