बिहार में कास्ट सेंसस को लेकर सियासी बवाल, विजय कुमार सिन्हा ने सीएम पर साधा निशाना

कास्ट सेंसस को लेकर बिहार में राजनीतिक पारा हाई हो चुका है और शनिवार से इसकी गिनती भी शुरू हो चुकी है. वहीं दूसरी तरफ नेताओं के ताबड़तोड़ बयानबाज़ी शुरू हो चुकी हैं. सीएम नीतीश कुमार से सवाल करते हुए नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि..

नीतीश जी बता दें जाति के आधार पर आजादी के 75 साल के इतिहास में अब तक गणना क्यों नहीं हुई? गरीबों के लिए केंद्र ने कई दर्जनों योजना शुरू कीजा को जाति मुक्त समाज और भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाना चाहती थी.

ट्विटर पर वीडियो जारी करते हुए विजय सिन्हा ने कहा कि समाज को जाति के बजाए केवल आर्थिक जनगणना करवाकर तोड़ने से बचाया जा सकता है. कभी भी जाति में बांट कर समरस समाज की परिकल्पना पूरी नहीं की जा सकती है. क्षेत्रीय पार्टियां बस अपनी राजनीतिक रोटी सेकना चाहती है. अगर जातीय जनगणना कराना चाहते हैं तो जरूर कराएं, लेकिन इस 500 करोड़ से गरीबों को क्या और कितना लाभ मिलेगा?

बिहार की गरीब जनता के साथ नीतीश कुमार अपनी राजनीति के लिए गलत कर रही है. छात्र यहां लाठियां खा रहे हैं. इसके अलावा बीएसएससी छात्रों, शिक्षक अभ्यर्थियों के लिए क्या कर रहे हैं. जब बिहार में विकास की गति बढ़ानी है तो बिहार को प्रदूषित करना चाहते हैं. जो लोग बिहार के बाहर हैं या फिर पलायन किया है जनगणना उनकी भी करानी चाहिए.

सिन्हा ने कहा कि दोनों भाई 32 साल से क्या कर रहे थे? क्यों नहीं तब से बिहार में जातीय जनगणना कराया. बिहार के लोगों का ये अब भविष्य खराब कर रहे. जो 500 करोड़ का खर्च है वो किस प्लानिंग से कर रहे हैं? इसकी जानकारी और प्लान बताएं. ये समाज को लड़ाने के लिए मुख्यमंत्री का मिशन है. साथ ही उन्होंने कहा कि अब तो दोनों भाई बिहार को बख्श दीजिए.