रीगा में अपराधियों ने घर से बुलाकर ले गया और चाकू गोदकर युवक का कर दिया हत्या

रीगा : थाना क्षेत्र के सोनार गांव अंबिकापुर टोला के चौड़ में एक युवक की शव मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। युवक की पहचान रीगा प्रथम पंचायत के रामनगर वार्ड नंबर 1 निवासी हरीशचंद्र पासवान के 25 वर्षीय पुत्र बम बम पासवान उर्फ जयप्रकाश के रूप में की गई है।

मृतक तीन भाइयों में सबसे बड़ा था छोटा भाई ओम प्रकाश कुमार, अमित कुमार परदेस में रहकर मजदूरी करता है। जबकि बमबम गांव पर ही अपने माता-पिता के साथ रहता था। बम बम की हत्या शनिवार की देर रात्रि अज्ञात अपराधियों ने घर से बुलाकर ले गया और चाकू गोदकर हत्या कर दिया एवं सोनार गांव के अंबिकापुर टोला चोड़ में शव को फेंक दिया।

शव को देखने से प्रतीत होता है कि बम बम को गोली भी मारी गई है एवं बुरी तरह से चाकू गोधा गया है। मिली जानकारी के अनुसार सोनार गांव के एक युवक ने देर संध्या बमबम को उसके घर चिकन खाने के लिए बुलाने आया था। हालांकि उसके आने के पूर्व से ही बम बम घर से गायब था। बम बम के घरवालों ने सोनार से आए युवक को बंधक बना लिया एवं बम बम की जानकारी के लिए उसे रात भर अपने घर में ही रखा था।

आसपास के लोग द्वारा बम बम की खोजबीन की जा रही थी। सुबह सोनार के युवक के साथ बम बम के माता-पिता समेत अन्य गांव वाले चोड़ की तरफ ढूंढने निकले इसी बीच सोनार गांव के अंबिकापुर टोला मध्य विद्यालय चौड़ में बम का शव देख लोग परेशान हो गए। इस दौरान फायदा उठाकर युवक वहां से फरार हो गया। घटना की सूचना पर थानाध्यक्ष संजय कुमार समेत बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुंचकर मामले की छानबीन शुरू कर दीया। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए सीतामढ़ी सदर अस्पताल भेजने के लिए ले जा रहे थे। तभी बम बम के घर के पास रामनगर गांव में सैकड़ों की संख्या में महिलाओं ने सड़क पर रास्ता रोक कर प्रदर्शन करने लगे एवं अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे।

हालांकि कुछ ही देर बाद पंचायत के सरपंच प्रतिनिधि भाग्य नारायण पासवान, पूर्व सरपंच सिकंदर पासवान, कृष्ण नंदन पासवान समेत तकरीबन आधा दर्जन सामाजिक कार्यकर्ताओं के आश्वासन के बाद शव को सदर अस्पताल भेजा गया। घटना के बाद मृतक की मां एतवरीया देवी पिता हरीचंद्र पासवान समेत घर के अन्य सभी सदस्यों के रो रो कर बुरा हाल है। सामाचार लिखे जाने तक मृतक के पिता हरीश चंद्र पासवान से थाना अध्यक्ष बारीकी से पूछताछ कर रहे थे एवं मामले की जानकारी ले रहे थे।

मृतक बम बम पासवान उर्फ जयप्रकाश वर्ष 2020 में अपराध की दुनिया में कदम रखा था। वर्ष 2020 के जून माह में किशन इंडेन गैस एजेंसी के कर्मी से पिस्टल के बल पर नगद रुपया व मोबाइल लूट लिया गया था। एजेंसी के कर्मी के द्वारा अज्ञात अपराधियों पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। हालांकि कुछ ही दिन बाद लूटी गई मोबाइल बरामद हुआ था। जिसमें बम बम पासवान का नाम सामने आया था।

हालांकि मामले को लेकर बम बम पुलिस के गिरफ्त से बाहर था। वही वर्ष 2020 मे ही शराब की एक बड़ी खेप पकड़ी गई थी। हालांकि बम बम सभी मामलों मे बेल करा कर अपने घर पर रहता था। गांजा पीने जाया करता था सोनार अंबिकापुर टोला- स्थानीय लोग बताते हैं कि बम बम अपने दोस्तों के साथ प्रत्येक दिन संध्या में अंबिकापुर चौड़ में गांजा पीने जाया करता था। शनिवार को भी गांजा पीने के लिए घर से निकला था।

रीगा के रामनगर गांव के कुख्यात अपराधी इंदल महतो के गैंग का रहने वाला था बम बम पासवान उर्फ जयप्रकाश। बताते चलें कि बम बम कुख्यात इंदल महतो का राइट हैंड था। वह इंदल महतो के ही इशारों पर घटना का अंजाम दिया करता था। कई मामलों में पुलिस को अभी भी बम बम की तलाश थी। हालांकि पुलिस के गिरफ्त से बाहर रहता था।

विगत वर्ष 2019 में विद्यालय संचालक पर हुई गोलीबारी की घटना मामले में भी शामिल था। उस मामले में भी बम की तलाश जारी थी। हालांकि 2 सप्ताह पूर्व ही इंदल महतो को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इंदल महतो फिलहाल जेल में ही है। स्थानीय लोगों की मानें तो गैंगवार में भी बम बम की हत्या होने की आशंका है। हालांकि पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है।