सीतामढ़ी में ठंड का प्रकोप,16 जनवरी से मौसम में बदलाव

उत्तर पछुआ हवा के कारण जिले में शीतलहर से भयंकर ठंड का प्रकोप जारी है.  सुबह से ही कनकनी के साथ देर तक कोहरा छाया रहा. जिसके चलते सड़क पर आठ बजे तक वाहनों के आवागमन में कमी रही. वहीं इस कोहरे के दौरान वाहन भी रोशनी जलाकर धीरे धीरे गुजरते रहे.

बात करे तापमान की तो न्यूनतम तापमान 6.9 डिग्री पर रहा. फिर लगभग नौ बजे के करीब से कोहरा छटने लगा और विजिबिलिटी सामान्य होने लगी. दिन के तकरीबन 12 बजे से धूप खिलने लगी जो कि शाम के चार बजे तक हल्की गर्मी के साथ रही. जिसके कारण मौसम का तापमान बढ़कर 19 डिग्री तक पहुंच गया और लोगों को थोड़ी राहत मिली. धूप निकलने पर सभी घरों में दुबके लोग बाहर निकलने लगे. वहीं हाट बाजार में भी चहल पहल दिखने लगी.

इसके बाद फिर शाम होते ही पछुआ हवा के कारण ठंड दुबारा से बढ़ने लगी. लोग घरों की ओर जाते देखे गए. आपको बता दें कि पिछले सप्ताह सात दिनों तक धूप नहीं निकली थी. हालांकि दो दिनों से हल्की धूप निकलने से लोगों में राहत देखने को मिल रहा है. ठंड और कंपकंपाती कनकनी के कारण सड़कों पर अब भी लोगों का आवागमन कम है. इसके अलावा वाहनों में भी कम यात्री को ही देखा जा रहा है.

बता दें कि मौसम का पारा गिरने से रविवार को रात भर घना कोहरा लगा रहा. बारिश की तरह ओस की बूंदे गिरती रही और सड़क से लेकर भवनों का परिसर भी ओस की बूंदों से भींगा रहा. खेत खलिहानों में लगे गेहूं के पौधे पर ओस की बूंदे चिपकी थी. इस दौरान बाहर निकले लोगों के कपड़े भी हवा में सिमटे बूंदों भींगता नज़र आया. लोग कनकनी की मार से बाहर निकलने से परहेज कर रहे हैं.

वहीं मौसम वैज्ञानिक सह नोडल पदाधिकारी डॉ. राम ईश्वर प्रसाद ने जानकारी देते हुए बताया कि पछुआ हवा के चलते मौसम में सर्द काफ़ी बढ़ गया है. वहीं हिमालय का तराई होने के चलते यह क्षेत्र बर्फिली हवा की चपेट में है. पिछले 24 घंटे में मौसम के तापमान में गिरावट दिखी है और आने वाले दो दिन तापमान में हल्की फुल्की वृद्धि भी होगी. हालांकि फिर तापमान में गिरावट होगी और 16 जनवरी के बाद से मौसम में सुधार होने की संभावना दिखाई दे रही है.